Tuesday, September 14, 2021
Homeसमाचार टिप्पणीDuniya ke 7 Ajoobe दुनिया के सात अजूबे क्या है उनमें खास...

Duniya ke 7 Ajoobe दुनिया के सात अजूबे क्या है उनमें खास (full Guide)

दुनिया के सात अजूबे(Duniya ke 7 ajoobe)

क्या आप जानते हैं दुनिया में कुल duniya ke 7 ajoobe हैं ,हाँ शायद आप जानते होंगे पर क्या duniya ke 7 ajoobe कौन -कौन से हैं और उन्हें क्यों कहा गया कि duniya ke sat ajoobe,

Duniya ke 7 Ajoobe

आज हम जानेगे कि क्या है उनमें खास जिनकी वजह से वो
duniya ke 7 ajoobeकहलाते हैं।ये निम्न है…

चिचेन इत्ज़ा (Chichen Itza)

Duniya ke 7 Ajoobe
 


चिचेन इत्ज़ा मैक्सिको में बसा बहुत पुराना मयान मंदिर है। चिचेन इत्ज़ा माया का सबसे बड़ा शहर है, यहाँ की जनसँख्या भी अधिक है. मैक्सिको में चिचेन इत्ज़ा में सबसे पुराना पुरातात्विक स्थलों में से एक है, जहाँ हर साल 1.4 मिलियन पर्यटक घुमने जाते है।

 

चिचेन इत्ज़ा का माया मंदिर 5 किलोमीटर में फैला हुआ है. यह 79 फीट ऊँचा है. जो पत्थरों से पिरामिड की आकृति का बना है. इस मंदिर में उपर जाने के लिए चारों दिशाओं से सीढियां बनी है, टोटल 365 सीढियां है. हर दिशा से 91 सीढियां है. कहते है, हर एक सीढ़ी एक दिन का प्रतीक  है।

चीन की दिवार (The Great Wall of China) 

Duniya ke 7 Ajoobe

चीन की इस विशाल दीवार को दुनिया में सब जानते है. यह दीवार कई हिस्सों में वहां के शासकों द्वारा अपने राज्य की रक्षा के लिए बनाई गई थी, यह महान कलाकृति इतनी मजबूत, और विशाल है कि इसे “ग्रेट वाल ऑफ़ चाइना” कहा गया। इस चीन की दीवार की विशालता को वैज्ञानिक ने अंतरिक्ष से भी देखा है, यह मानव निर्मित कलाकृति वहां से भी दिखाई पड़ती है।  यह विशाल दीवार पूर्व के दंदोंग से शुरू होकर पश्चिम में लोप लेक तक है। चीन की दीवार लगभग 6400 किलोमीटर तक लम्बी है,  35 फीट ऊँची है और इसकी चौड़ाई इतनी है कि इसपे एक साथ 10-15 लोग आराम से चल सकते है।

ताजमहल (Taj Mahal )

Duniya ke 7 Ajoobe

भारत की शान ताजमहल भी दुनिया के सात अजूबों में से एक है. अपनी खूबसूरत कलाकारी, आकृति की वजह से इसे अजूबा बोला गया है। ताजमहल का निर्माण 1632 में शाहजहाँ द्वारा करवाया गया था, यह एक प्यार की निशानी है, जिसे शाहजहाँ ने अपनी पत्नी मुमताज की याद में  बनवाया था।

सफ़ेद संगमरमर का बना ये मकबरा, पूरी तरह से सफ़ेद है, जिसके चारों ओर बगीचा है, एवं सामने पानी की बारी है. ताजमहल भारत के आगरा शहर में स्थित है। इसके जैसे सुंदर कलाकृति दुनिया में और कही देखने को नहीं मिलेगी. मुग़ल शासक शाहजहाँ ने जब इसे बनवाया था, तब इसमें 15 साल का समय लगा था, और इसे बनाने के बाद राजा ने निर्माण से जुड़े सभी मजदूरों के हाथ कटवा दिए थे.

ताकि वे ऐसा कुछ दूसरा न बना सके. भारत में मुगलों ने लम्बे समय तक शासन किया था, इस दौरान उन्होंने बहुत सी शिल्पकारी, कलाकृति बनवाई थी, जो आज तक भारत में मौजूद है. ताजमहल की सुन्दरता को देखने के लिए, देश दुनिया से लोग दूर दूर से आते है।

पेट्रा (History of Petra)

Duniya ke 7 Ajoobe

साउथ जॉर्डन में बसे पेट्रा शहर की कलाकृति सात अजूबों में शामिल है. यह एक एतेहासिक और पुरातात्विक शहर है. इस शहर में चट्टानों को काटकर वास्तुकला का निर्माण हुआ है, साथ ही यहाँ पानी की नालीनुमा प्रणाली है, यही वजह है  ये शहर बहुत famous  है.

इस शहर को “रोस सिटी” भी कहा जाता है, क्यूंकि यहाँ को पत्थर काटकर कलाकृति बनी है, वो सब लाल रंग की है  यह जॉर्डन का मुख्य आकर्षण है, जहाँ हर साल बहुत से पर्यटक जाते है  यहाँ ऊँचे ऊँचे मंदिर है, जो आकर्षण का केंद्र है. इसके अलावा तालाब, नहरें भी है, जो बहुत सुन्योजित तरीके से बनाई गई है।

रोम का कोलोसियम (Roman Colosseum)

रोम के इडली में बसा ये एक विशाल स्टेडियम है. रोम में देखने के लिए ये मुख्य आकर्षण है. ओवल शेप की ये विशाल आकृति, कंक्रीट व् रेत से बनाई गई थी। इतनी पुरानी ये वास्तुकला आज भी दुनिया के सात अजूबों में अपनी जगह बनाये हुए है.

प्राकतिक आपदा, भूकंप से ये थोडा बहुत ध्वस्त हुआ, लेकिन आज भी इसकी विशालता वैसे ही है. यहाँ 50 हजार से 80 हजार लोग बैठ सकते है. यहाँ जानवरों की लड़ाई, खेल कूद, संस्कृतिक कार्यक्रम होते है. यह 24 हजार वर्गमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है. इस जैसी आकृति को बनाने की कोशिश कई इंजीनियरों द्वारा की गई, लेकिन ये एक तरह की पहेली है, जिसे आज तक कोई सुलझा नहीं  पाया है।

क्राइस्ट दी रिडीमर (Christ The Redeemer)

यह ब्राजील के रियो डी जनेरिओ में स्थित है. दुनिया एकलौते जीवित परमेश्वर येशु मसीह की 38 मीटर, लगभग 130 फीट ऊँची और 28 मीटर चौड़ी यह प्रतिमा, दुनिया के अजूबों में से एक है। इससे ऊँची कोई भी प्रतिमा आज तक नहीं बनी है। दुनिया के उद्धारकर्ता के रूप में माने जाने वाले येशु मसीह की इस मूर्ती का निर्माण 1922 में शुरू हुआ था, जो 12 अक्टूबर 1931 को इस जगह पर स्थापित किया गया था।

जिसे ब्राजील से सिल्वा कोस्टा ने डिजाईन किया था, एवं फ्रेंच के महान मूर्तिकार लेनदोव्सकी से इसे बना के तैयार किया था। इसका वजन 635 टन के लगभग होगा। यह रियो शहर के 700 मीटर ऊँची कोरकोवाडो की पहाड़ी पर स्थित है। दुनिया भर में ईसाई धर्म का यह बहुत बड़ा प्रतीक है ।

दी ग्रेट पिरामिड ऑफ़ गिज़ा (Great Pyramid of Giza)

Duniya ke 7 Ajoobe

दी ग्रेट पिरामिड ऑफ़ गिज़ा सबसे बड़ा और सबसे पुराना पिरामिड है, जो आज तक इस दुनिया में प्राचीनकाल से मौजूद है. इसलिए इसे एक विशेष सम्मान के तौर पर स्थान प्राप्त है.

इजिप्ट पे स्थित गिजा का ये पिरामिड बहुत पुरानी कलाकृति है, जो  7 अजूबे में से एक है।  इसकी ऊंचाई 146.5 मीटर है. 3800 साल तक ये सबसे लम्बी मानव निर्मित कलाकृति रही है।

उम्मीद करता हूँ कि आपको Duniya ke 7 ajoobe के बारे में पढ़ कर मज़ा आया होगा। आप हमें कमेंट करके बताएं कैसा लगा आप को ये Duniya ke 7 ajoobe….

Thank you so much for visit this site and read this compilation

 

Read More- 

List of chinese apps in India भारत में बंद हुआ चीन का 59 अप्प्स

Navratri in 2020, नवरात्रि क्या है और नौ देवियों की पूजा विधि नाम के साथ.

ऐसे देश जो भारत की करेंसी से भी छोटे हैं,जहाँ भारत का रुपया रखता है बहुत महत्व

इंडियन प्रोडक्ट्स को कैसे पहचाने – Indian Product ko kaise pahchane

Best Apps for YouTuber बेस्ट अप्प्स फॉर यौतुबेर

बचपन के 10 अंधविश्वास जो हम सब आंखे मूंद कर मान लेते थे।

दुनिया के सात अजूबे क्या है उनमें खास Duniya ke 7 Ajoobe (full Guide)

कायस्थो के पूज्यनीय देवता श्री चित्रगुप्त महाराज जी

GB Whatsapp क्या है इसे कैसे use करें और इसके सारे Features क्या-क्या हैं

We are wish you a Merry Christmas

How to Earning with Youtube? best guide 2020 in Hindi

Adsense is permanently blocked how to re-enable

What is the Base of Adsense invalid click and CTR

MAHASHIVRATRI,” THE GREAT NIGHT OF SHIVA”

Happy Diwali, दीपावली उज्जवल त्यौहार इसे कैसे मानते है

Shri krishna Janmashtami श्री कृष्ण जनमाष्टमी क्यों और कैसे मानते हैं बिस्तार में जाने

 16,013 total views,  3 views today

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments